ट्रेन इंजन की चोरी, इंजन चुराने के लिए बनाई सुरंग

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो, "चोरों ने रेल का इंजन चुराने के लिए एक सुरंग बनाई थी"

0
118
ट्रेन के इंजन की चोरी

ट्रेन इंजन की चोरी, मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो, “चोरों ने रेल का इंजन चुराने के लिए बनाई सुरंग”

25 नवंबर को एक खबर आयी कि बिहार में चोरों ने ट्रेन का इंजन ही चुरा लिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के हिसाब से, चोरों ने ट्रेन के इंजन को चुराने के लिए एक सुरंग बनाई थी, जिसका रास्ता सीधा रेलवे के यार्ड में निकल रहा था. रिपोर्ट में बताया गया कि बेगुसराय पुलिस ने इस मामले की जांच करते हुए एक कबाड़ के गोदाम से इंजन के पुर्जों से भरी 13 बोरियां बरामद की हैं. न्यूज चैनलों में ये खबर आने के बाद लोग हैरान थे, कि आखिर रेल का इंजन कैसे चुराया जा सकता है?

चोरों को हुयी गिरफ़्तारी, की जा रही है कानूनी कार्रवाई

मामले की गंभीरता को देखते हुए पूर्व मध्य रेलवे ने तुरंत प्रेस रिलीज जारी किया. रेलवे ने प्रेस रिलीज में बताया, ”ट्रैन इंजन के अंदर से कॉपर वायर की चोरी हुई थी जिसे कुछ मीडिया द्वारा पूरे इंजन की चोरी का मामला बताया जा रहा है, जो बिल्कुल गलत और निराधार हैं. मामले की जानकारी मिलते ही रेलवे ने फ़ौरन संज्ञान लिया और चोरी हुए कुल कॉपर वायर का 95% बरामद कर लिया गया है. इस चोरी में शामिल लोगों को गिरफ्तार कर के उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है.”

रेलवे पुलिस ने इस घटना का पर्दाफाश किया

बिहार के बेगुसराय में हुई इस चोरी में आरपीएफ (रेलवे सुरक्षा बल) और विजिलेंस विभाग ने मिलकर कार्रवाई की जिसमें एक बर्तन बेचने वाले दुकानदार के यहां से ट्रैन के इंजन के कुछ पार्ट्स के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया गया। मुजफ्फरपुर जिले के भगवानपुर में एक बर्तन वाले की दुकान पर छापेमारी कर रेलवे पुलिस ने इस घटना का पर्दाफाश किया। पूछताछ में सामने आया के ट्रैन के ये पुर्जे गरहरा रेलवे वर्कशॉप, बरौनी के पास से चोरी हुए थे।

यह भी पढ़ें: भेड़िया फिल्म की समीक्षा

ट्रेन इंजन की चोरी का मामला

मुज़फ्फरपुर आरपीएफ के निरीक्षक पी एस दुबे ने बताया की पिछले हफ्ते बरौनी थाने अंतर्गत आने वाले “गरहरा यार्ड” में मरम्मत के लिए लाए गए डीजल इंजन की चोरी का मामला दर्ज होने के बाद तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था। पूछताछ के दौरान गिरफ्तार हुए चोरों ने बताया कि उन लोगो ने रेलवे यार्ड तक एक सुरंग खोदी, जिसके माध्यम से वे इंजन के पार्ट्स और अन्य सामान बोरियों में भरकर ले गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here