क्या फसल का उचित दाम मांग कर किसान भारत को बदनाम कर रहे हैं? : राकेश टिकैत 

Are farmers defaming India by demanding a fair price for the crop?: Rakesh Tikait told NDTV - क्या फसल का उचित दाम मांग कर किसान भारत को बदनाम कर रहे हैं? : NDTV से बोले राकेश टिकैत

0
627
क्या फसल का उचित दाम मांग कर किसान भारत को बदनाम कर रहे हैं?

Are farmers defaming India by demanding a fair price for the crop?: Rakesh Tikait told NDTV – क्या फसल का उचित दाम मांग कर किसान भारत को बदनाम कर रहे हैं? : NDTV से बोले राकेश टिकैत

gc0v7mvs rakesh tikait

राकेश टिकैत ने कहा – नए कृषि कानूनों को वापस लेना पड़ेगा

नई दिल्ली:

किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait)  ने केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन को हाईजैक करने की अंतरराष्ट्रीय साजिश के आरोपों पर सवाल उठाए हैं. टिकैत ने कहा कि सरकार को ये कानून वापस लेने होंगे जो किसी तरह किसानों के हित में नहीं हैं. NDTV को दिए इंटरव्यू में टिकैत ने कहा कि कृषि कानूनों को वापस लेने में समस्या क्या है. जबकि ये किसानों की सहमति के साथ नहीं लाए गए हैं. किसान ये कानून नहीं चाहते हैं. इन्हें वापस लिया जाना चाहिए और इसके बजाय एमएसपी पर कानूनी गारंटी का कानून लेकर सरकार को आना चाहिए.

यह भी पढ़ें

क्या फसल का उचित दाम मांग कर किसान भारत को बदनाम कर रहे हैं?

राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि असली साजिश है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानून न होने से कारपोरेट घरानों को किसानों को लूटने की खुली छूट मिल जाएगी. टिकैत ने कहा, ” हम तो सिर्फ विरोध कर रहे हैं, क्या हम कुछ और कर रहे हैं? हमें राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है. हमने कभी किसी से नहीं कहा कि किसे वोट देना चाहिए. किसानों को हर रात 10 हजार रुपये के हिसाब से 350 फीसदी ब्याज का भुगतान एक लाख रुपये के लोन पर चुकाना पड़ता है. हम अपनी इन समस्याओं को लेकर कहां जाएं?”

आंदोलनकारियों को अलगाववादियों, अलग सिख राष्ट्र की मांग करने वाले खालिस्तानियों से जोड़ने की कोशिशों पर टिकैत ने कहा कि यह बिल्कुल बेबुनियाद है कि उनके आंदोलन का मकसद भारत को बदनाम करने का है.

टिकैत ने कहा कि अगर किसान अपनी फसल का उचित दाम मांग रहे हैं तो क्या यह भारत को बदनाम करने का प्रयास है. असली साजिश तो यह है कि अगर एमएसपी पर कानून नहीं होगा तो कॉरपोरेट घरानों को किसानों को लूटने की पूरी आजादी मिल जाएगी. सड़कों पर पुलिस प्रशासन द्वारा किसानों को रोकने के लिए कीलें लगाए जाने के जवाब में फूल वाले पेड़ लगाने के उनके कदम पर टिकैत ने कहा, ” वे कीलें ठोकेंगे और हम फूल उगाएंगे. यही शांति का प्रतीक है.”

 

For the latest news and reviews keep visiting HamaraTimes.com

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here