7 हज़ार ज्यादा वोट मिलने के बाद भी हार गई बीजेपी

चुनाव में कांग्रेस ने लगभग 20 हज़ार वोटों से जीत हासिल की है

0
536
7 हज़ार ज्यादा वोट मिलने के बाद भी हार गई बीजेपी

खैरागढ़ उप-चुनाव:- 7 हज़ार ज्यादा वोट मिलने के बाद भी हार गई बीजेपी

न्यूज़ डेस्क- 12 April को हुए मतदान का फैसला आ चूका है। इस चुनाव में कांग्रेस ने लगभग 20 हज़ार वोटों से जीत हासिल की है। वहीँ 2018 के चुनाव में इस सीट को जीतने वाली JCCJ के उम्मीदवार अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए। पिछले चुनाव का 10 फिसद भी वोट हासिल नहीं कर पाए। वहीँ कांग्रेस जहाँ पिछले चुनाव में 3 तीसरे स्थान पर थी इस बार 87879 वोट हासिल कर के पहले नंबर पर है।

बिहार की बोचहां सीट से राजद उम्मीदवार अमर कुमार पासवान जीते, महाराष्ट्र के कोल्हापुर नॉर्थ से इंडियन नेशनल कांग्रेस के उम्मीदवार जाधव जयश्री चंद्रकांत (अन्ना) जीते, और वेस्ट बंगाल की बॉलीगंज सीट से ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस के बाबुल सुप्रियो जीते।

पूरा रिजल्ट देखने के लिए क्लिक करें

Chhattisgarh-Khairagarh
Result Status
O.S.N. Candidate Party EVM Votes Postal Votes Total Votes % of Votes
1 KOMAL JANGHEL Bharatiya Janata Party 67660 43 67703 40.81
2 NARENDRA SONI Janta Congress Chhattisgarh (J) 1220 2 1222 0.74
3 YASHODA NILAMBER VERMA Indian National Congress 87829 50 87879 52.97
4 CHURAN (VIPLAV SAHU) Forward Democratic Labour Party 2411 1 2412 1.45
5 DHALCHAND SAHU Ambedkarite Party of India 386 0 386 0.23
6 MOHAN BHARATI Rashtriya Jansabha Party 473 1 474 0.29
7 SANTOSHI PRADHAN Gondvana Gantantra Party 587 3 590 0.36
8 ARUNA BANAFAR Independent 564 0 564 0.34
9 NITIN KUMAR BHANDEKAR Independent 1411 2 1413 0.85
10 SADHURAM DHURVE Independent 642 0 642 0.39
11 NOTA None of the Above 2615 1 2616 1.58
Total 165798 103 165901

कहाँ हुई बीजेपी से चुक
अगर इस चुनाव में बीजेपी की बात करें तो पिछले चुनाव के मुकाबले प्रत्याशी कोमल जंघेल को 5.24% 7054 वोट ज्यादा मिले हैं। बीजेपी के हारने की सबसे बड़ी वजह बड़े नेताओं का सक्रिय न होना है। चुनाव की घोषणा होने के बाद भी बड़े नेता या सीधे कहें तो प्रभारी और अन्य नेता विधानसभा से नदारद रहे। वहीँ कांग्रेस के 10 से ज्यादा विधायक और मंत्री क्षेत्र में लगातार आते रहे और जनता से मिलते रहे। बीजेपी ये मान कर चलती रही की JCCJ का पूरा वोट बैंक कांग्रेस को नहीं जायेगा लेकिन हुआ ठीक उल्टा।

यह भी पढ़ें: दिल्ली में मास्क नहीं पहनने पर जुर्माना नहीं

कांग्रेस ने कैसे जीता चुनाव
कांग्रेस के जीतने की सबसे बड़ी वजह खैरागढ़ को जिला बनाने की घोषणा और कार्यकर्ताओं का क्षेत्र में सक्रिय होना है। प्रत्याशी के एलान के बाद से ही यहाँ कार्यकर्त्ता सक्रिय हो गये थे और वो जमीन पर काम करने लगे थे। कांग्रेस की जीत में सबसे बड़ी वजह JCCJ के प्रत्याशी ने भी निभाया। JCCJ प्रत्याशी नरेन्द्र सोनी अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए क्योंकि ये क्षेत्र में सक्रिय ही नहीं थे। सक्रिय न होने की वजह से JCCJ का पूरा वोट बैंक कांग्रेस में चला गया।

NOTA को मिला 2 हज़ार से ज्यादा वोट
पिछले बार के मुकाबले इस बार Nota को कम वोट मिला है लेकिन कम वोट मिलने बाद भी तीसरे स्थान पर है। इस बार NOTA को 2616 वोट मिला है जबकि 2018 के चुनाव में 3068 वोट मिले थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here