ब्रिटेन में सख्‍त किए नियम, रेड लिस्‍ट देशों से लौटने वालों को होटल में 10 दिन रहना होगा क्‍वारंटाइन

Covid-19 Pandemic: Tougher travel rules to contain spread of Covid-19 come into force in UK - कोरोना महामारी: ब्रिटेन में सख्‍त किए नियम, रेड लिस्‍ट देशों से लौटने वालों को होटल में 10 दिन रहना होगा क्‍वारंटाइन

0
11
ब्रिटेन में सख्‍त किए नियम

Covid-19 Pandemic: Tougher travel rules to contain spread of Covid-19 come into force in UK – कोरोना महामारी: ब्रिटेन में सख्‍त किए नियम, रेड लिस्‍ट देशों से लौटने वालों को होटल में 10 दिन रहना होगा क्‍वारंटाइन

कोरोना महामारी: ब्रिटेन में सख्‍त किए नियम, 'रेड लिस्‍ट' देशों से लौटने वालों को होटल में 10 दिन रहना होगा क्‍वारंटाइन

ब्रिटेन ने कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए सोमवार से यात्रा के नियम कड़े बना दिए हैं (प्रतीकात्‍मक फोटो)

लंदन :

Covid-19 Pandemic: ब्रिटेन में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) के प्रसार को रोकने के लिए सोमवार से यात्रा के नियम कड़े बना दिए गए जिसके तहत 33 उच्च खतरा वाले ‘‘रेड लिस्ट” देशों से ब्रिटेन लौटने वाले लोगों को आवश्यक रूप से होटल में क्‍वारंटाइन में रहना होगा. यहां आने वाले लोगों को सरकार की तरफ से निर्धारित होटलों में दस दिनों तक क्‍वारंटाइन में रहने के लिए पहले से बुकिंग करानी होगी और इसके लिए उन्हें 1750 पाउंड का भुगतान करना होगा. इसमें होटल का खर्च, परिवहन और पहुंचने के बाद दो अलग-अलग जांच का खर्च शामिल हैं. नये मानकों का गंभीर उल्लंघन करने वालों को दस वर्ष की जेल और 10 हजार पाउंड तक का जुर्माना हो सकता है.

Covid-19 Pandemic: Tougher travel rules to contain spread of Covid-19 come into force in UK – कोरोना महामारी: ब्रिटेन में सख्‍त किए नियम, रेड लिस्‍ट देशों से लौटने वालों को होटल में 10 दिन रहना होगा क्‍वारंटाइन

कागज-कपड़े की तुलना में कांच और प्लास्टिक पर ज्‍यादा समय तक जिंदा रहता है वायरस: स्‍टडी

जिन लोगों ने भारत जैसे ‘‘रेड लिस्ट” देशों का दौरा नहीं किया है, उन्हें दस दिनों तक आवश्यक रूप से घर में पृथक-वास में रहना पड़ेगा और पहुंचने के दूसरे और आठवें दिन दो आवश्यक कोविड-19 जांच कराने होंगे.ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने कहा, ‘‘नये स्वरूप के सामने आने के बाद हमें और आगे कदम बढ़ाना होगा. आज से लागू नियम पृथक-वास की व्यवस्था को और मजबूत बनाएंगे और सीमा पर नये स्वरूप के खिलाफ सुरक्षा का स्तर सुदृढ़ करेंगे.”उन्होंने कहा, ‘‘अपने टीकाकरण कार्यक्रम की रक्षा के लिए ये नये उपाय जरूरी हैं जिसके तहत अब तक 1.5 करोड़ लोगों को टीका लगाया जा चुका है. हम सभी सामान्य जीवन बहाल करने के लिए काम कर रहे हैं.”

कोरोना : 20 से 49 साल के लोग ज्यादा खतरनाक!

(इस खबर को HamaraTimes टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here