विकास के इंतज़ार में मोरवा विधानसभा

0

विकास के इंतज़ार में मोरवा विधानसभा

न्यूज़ डेस्क-2008 में हुए परिसीमन के बाद अस्तित्व में आए मोरवा विधानसभा में दो बार से जदयू का कब्ज़ा है। परिसीमन के बाद पहली बार हुए चुनाव में बैधनाथ सहनी जदयू के टिकट पर जीत कर आए तो वहीँ 2015 के चुनाव में विद्यासागर सिंह निषाद को जदयू का टिकट मिला। मौजूदा विधायक बीजेपी के सुरेश राय को हराकर जीत हासिल की। पिछले 15 सालों से बिहार में जदयू की सरकार है और मोरवा में 10 सालों से ही जदयू का विधायक है लेकिन उसके बाद भी विकास नहीं हुआ है।

मोरवा का खुद्नेश्वर धाम मंदिर जो पुरे हिन्दुस्तान में एकता और अखंडता के लिए मशहूर है लेकिन फिर भी मंदिर तक जाने लिए कोई भी रास्ता ठीक नहीं है। सरारंजन से मंदिर की तरफ जाए या फिर मोरवा बाज़ार से मंदिर की तरफ जाए या फिर मोरवा रायटोली,ताजपुर या फिर चंदौली से मंदिर जाए सब रास्ता ख़राब है।

मोरवा विधानसभा का चौराहा कहे जाना वाला काली स्थान में हल्की बारिश में ही पानी जमा हो जाता है लेकिन विधायक जी ने आज तक सुध नहीं ली। मोरवा विधानसभा के अंतर्गत ही आने वाले वार्ड 10 मोरवा गोपालटोला  में पिने के पानी की सबसे बड़ी समस्या है।

देखिये ये खास रिपोर्ट

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here