IGNCA में पर्यावरण वीक पर लगा कलाकारों का संगम

IGNCA में पर्यावरण वीक पर लगा कलाकारों का संगम

नई दिल्ली में मंगलवार 4 जून से लेकर सोमवार 10 जून 2019 तक फोटोग्राफी और पेटिंग का एग्जिबेशन लगाया गया है। यह एग्जीबिशन इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केन्द्र में आयोजित किया गया है. इस कार्य़क्रम की मेजबानी पंडित दिनदयाल उपाध्याय स्मृर्ति मंच और IGNCA (मिनिस्ट्री ऑफ़ कल्चर ) मिलकर कर रहे हैं। इस कार्यक्रम का मकसद विश्व पर्यावरण वीक को सेलिब्रेट करना है।

पर्यावरण वीक को सेलिब्रेट करने के लिए डॉ गौरी श्रीवास्तव का महत्वपूर्ण योगदान है. डॉ गौरी ने विश्व पर्यावरण वीक को मनाने के लिए 70 पेंटर, फोटोग्राफर स्कलपचर, कार्टूनिस्ट से लेकर विभिन्न कला क्षेत्र के लोगों को अपनी कला का प्रदर्शन करने के लिए एक मंच का संयोजन किया है। जिससे सभी आर्टिस्ट अपनी कला के माध्यम से लोगों को जागरूक कर सके।

इस कार्यक्रम के जरिये आर्टिस्ट पर्यावरण के हर पहलू और मानव निर्मित संसाधनों के दूरउपयोग से होने वाले पर्यावरण के नुकसान को बतला रहे हैं। साथ ही लोगों से विश्व पर्यावरण दिवस पर ही नहीं बल्कि पूरे वर्ष पर्यावरण के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए भी आग्रह कर रहे है।

इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाली दिल्ली की फोटोग्राफर राज लक्ष्मी सिंह और गोरखपुर, उत्तर प्रदेश के अभिषेक सिंह ने भी अपनी बेहतरीन फोटोग्राफी के जरिये पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक किया। प्रदर्शनी में उनकी कई तस्वीरों ने ना सिर्फ दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित किया बल्कि उन्हें पर्यावरण के प्रति सचेत न रहने पर होने वाली समस्याओं से भी अवगत कराया। दोनों ही फोटोग्राफर ने अपनी फोटोग्राफी के माध्यम से राजधानी दिल्ली में यमुना नदी में हो रहे प्रदुषण को दर्शाया है. साथ ही समाज के लोगों को यह सन्देश दिया है कि अगर हम ऐसे ही यमुना नदी मे गंदगी फैलाते रहे तो अपने आने वाली पीढी को एक सुनहरा भविष्य नहीं दे पाएंगे।

फोटोग्राफर राजलक्ष्मी कहती है कि एक तस्वीर हजारों शब्दों को बयां कर देती है। कई बार लिखित शब्द लोगों पर इतना प्रभाव नहीं डाल पाते जितना एक तस्वीर कह देती है। ऐसे में हम फोटोग्राफर की भी जिम्मेदारी बनती है कि हम समाज को पर्यावरण के प्रति अपनी कला के माध्यम से अत्यधिक संवेदशील बना सके। खासकर तब जब दिल्ली जैसे शहरों में प्रदूषण की वजह से पर्यावरण को काफी नुकसान पहुँच रहा है।

साथ ही इस कार्यक्रम में विभिन्न पेंटिग्स के माध्यम से भी कलाकारों ने लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने के लिए अपने-अपने कला के माध्यम से सन्देश देने का प्रयत्न किया है. जागरूकता के इस क्रम में बिहार के अभिषेक सिंह ने अपने पेंटिंग्स के माध्यम से दैनिक जीवन में इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक के दुष्परिणामों को बखूबी दर्शाया है. साथ ही अभिषेक सिंह ने इस कार्यक्रम को क्यूरेट भी किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here